how to do angel therapy, what is angel therapy in hindi, angel therapy practitioner course, angel therapy meditations, angel therapy course, angel therapy meaning, angel therapy course fees, angel therapy wiki, परी चिकित्सा कैसे करें, हिंदी में परी चिकित्सा क्या है, परी चिकित्सा चिकित्सक पाठ्यक्रम, परी चिकित्सा ध्यान, परी चिकित्सा पाठ्यक्रम, परी चिकित्सा अर्थ, परी चिकित्सा पाठ्यक्रम शुल्क
कैसे कार्य करती है एंजेल थेरेपी?

 

एंजेल थेरेपी क्या है? (what is angel therapy?)

एंजेल थेरेपी अर्थात एक ऐसी पद्धति जिसमें एंजेल की मदद से अपनी समस्यायों को हल  किया जाता है। अपनी किसी भी तरह की समस्या को हल करने के लिए एंजेल को पुकारा जाता है। उसे अपनी समस्या बताकर हल करने के लिए कहा जाता है। ये थेरेपी बड़ी ही सटीक और कारगर काम करती है। आइये जानते हैं कि एंजेल थेरेपी क्या है? इस थेरेपी के विषय में अधिक जानने से पहले ज़रूरी है कि ये जान लिया जाये कि एंजेल क्या होता है या होती है?

एंजेल क्या होते हैं? (what are angel?)

बचपन में आपने परियों की कई कहानियां सुनी होंगी और ये कल्पना भी की होगी कि काश ऐसी ही कोई परी मुझे भी मिल जाये या कोई परा मुझे मिल जाये। उसे मुझसे प्यार हो जाये या फिर वो मेरी सारी समस्याएं दूर कर दे।

तो बस कुछ यूं समझ लें कि आपकी वो कल्पनाएं सिर्फ कल्पनाएं ही नहीं थीं। कहानियों वाली वो परियां वाकई होती हैं। और खुश हो जाईये क्योंकि ईश्वर ने इन्हें हमारी समस्यायों को हल करने के लिए ही हमारे आसपास भेजा है।

एंजेल, परी या पंखों वाले देवदूत हमारे और ईश्वर के बीच एक संदेशवाहक की तरह काम करते हैं। वे एक पुल हैं इस संसार और ईश्वर के बीच।

यहाँ जानें: ऐसा चमत्कारिक उपाय जो एक  मिनट में आपकी सारी नेगेटिविटी को ख़त्म कर देगा

दयालु होते हैं यह एंजेल (are lovely, this angel)

स्वभाव से ये एंजेल बड़े दयालु होते हैं और वे चाहते हैं कि वे हमारी सहायता करें। वे सिर्फ हमारी ही पुकार की प्रतीक्षा करते हैं। जब हम उनसे सहायता मांगते हैं तो वे हमारी सहायता अवश्य करते हैं क्योंकि वे सदैव हमारी मदद करने को आतुर रहते हैं।

कैसे कार्य करती है एंजेल थेरेपी? (how does angel therapy work?)

यदि हम एंजेल या देवदूतों से संपर्क स्थापित करने में सफल हो जाएं तो हम उन्हें अपनी इच्छा बता सकते हैं और उन इच्छाओं को पूरा करने में ये देवदूत (angels) हमारी मदद करते हैं। इन देवदूतों से संपर्क स्थापित करने, उन्हें अपनी इच्छा बताने तथा उसे पूरा करने में उनकी सहायता लेने की प्रक्रिया को ही एंजल थेरेपी (angel t herapy) कहा जाता है।

यह भी पढ़ें : अपना खोया हुआ प्यार वापिस कैसे पाएं

क्या करना पड़ता है एंजेल थेरेपी सीखने के लिए? (what to do to learn angel therapy?)

देवदूतों के साथ संपर्क स्थापित करने के लिए अभ्यास एवं प्रशिक्षण की आवश्यकता होती है। उसके सभी चक्र जागृत एवं शुद्ध होने चाहिए, तभी वह देवदूतों से संपर्क स्थापित कर सकता है। ये प्रक्रिया सुनने में शायद आपको कठिन लगे किन्तु ये कठिन होती नहीं। इसे आसानी से सीखा जा सकता है। यह एंजेल थेरेपी क्या है? जब हम इसको जान लेंगे तो हमें यह सब सहज सा लगने लगेगा। लेकिन इस चिकित्सा पद्वति को सीखने के लिए निरंतर अभ्यास एवं अपनी मनोदशा को एकाग्र करके मेहनत करनी पड़ती है।

सबके अपने देवदूत होते हैं (everyone has his angels)

एंजेल थेरेपी का प्रयोग करने वालों का मानना है कि हम सब के अपने देवदूत होते हैं। जो हमारे संरक्षक होते हैं और एक अभिभावक की तरह हमारा ध्यान रखते हैं। हमें सिर्फ उनसे संपर्क स्थापित करना होता है ताकि हम उनके मार्गदर्शन से अपना जीवन सुखमयी बना सकें। एंजेल थेरेपी क्या है? इस रहस्य से पर्दा उठाने का हमने एक छोटा सा प्रयास किया है। यदि आप भी इस विषय में कुछ कहना चाहें तो तो अपने विचार कमेन्ट बॉक्स में अवश्य लिखें।

यहाँ जानें: रेकी जैसी अलौकिक शक्तियाँ ऋषियों के पास भी थी: विकास दुग्गल