हम सब को ज्ञात है कि इस भाग-दौड़ की ज़िन्दगी में किसी को भी योग अथवा आसन करने का पर्याप्त समय नहीं हैं। किन्तु हमें यह पता होना चाहिए कि अगर हमें स्वस्थ रहना है तो हमें प्रतिदिन कम से कम 10 से 20 मिनट का टाइम निकाल कर योग करना चाहिए। वैसे तो हर आसन व योग हमारे शरीर को कुछ न कुछ फ़ायदा देता ही है लेकिन सर्वांगासन एक बहुत ही लाभकारी आसन है। सर्वांगासन का अर्थ हैं, सर्व अंग आसान अर्थ शरीर के सभी अंगों का आसान। इस आसन से हमारे पूरे शरीर का व्यायाम हो जाता है।

सर्वांगासन करने की विधि-

  1. सबसे पहले एक समतल फर्श अथवा भूमि का चयन करें तत्पश्चात एक चटाई या चद्दर का आसन बना लें।
  2. इस आसन को करने से पहले ये भी ध्यान रखें कि जिस स्थान का आपने चुनाव किया है वह पूर्ण रूप से शांत तथा हवादार होना चाहिए।
  3. सबसे पहले आप पीठ के बल लेट जाएं।
  4. अब आप अपने दोनों पैरों को सीधा करके एक दूसरे पैर से मिलाएं।  
  5. इस  क्रिया के दौरान अपने पूरे शरीर को पूरी तरह सीधे (तान) कर रखें ।
  6. इसके पश्चात आप सांस लेते हुए आराम से अपने दोनों पैरों को बिना मोड़ें ऊपर (आसमान) की तरफ उठायें।
  7. ध्यान रहे कि जैसे-जैसे आप अपने पैरों को ऊपर उठायें ठीक वैसे-वैसे अपने कमर को भी ऊपर की तरफ उठाते जाएँ। सर न उठाएं।
  8. आप की दोनों कुहनियाँ जमीन पर टिकी होनी चाहिए, तथा पीठ को ऊपर की तरफ उठाने के लिए अपने दोनों हाथों का सहारा लें।
  9. आप को ज्ञात होना चाहिए कि आप अपनी पीठ और गर्दन को इतना ऊपर उठायें कि आप की शरीर 90 डीग्री के आकर में परिवर्तित हो जाये।
  10. तत्पश्चात इस स्थिति में थोड़ी देर रुकने के पश्चात धीरे – धीरे अपने दोनों पैरों को निचे की तरफ लायें और अपने आप को पूर्व स्थिति में स्थापित कर लें ।

सर्वांगासन आसन से होने वाले लाभ –

  1. यह आसन आप के बालों के लिए वरदान साबित होता है। इस आसन को करने से आप के बाल घने तथा गिरने कम हो जाते हैं।
  2. इस आसन को करने से  थायरॉइड ग्रंथि गतिशील बनती है।
  3. यह आसन करने से आप के कंधे और पीठ दोनों मजबूत होते हैं।
  4. यह आसन दमा रोगियों को बहुत लाभ पहुचाता है।
  5. इस आसन को करने से होने वाली कब्ज से राहत मिलती है।
  6. सर्वांगसन आसन को करने से आप की त्वचा की ख़ूबसूरती बढ़ती है। यदि आप पिम्पल्स, फेस पर झुर्रियों, तथा त्वचा सम्बन्धी किसी समस्या से परेशान हैं तो यह आसन अवश्य करें। यह त्वचा की कई बिमारियों को समाप्त करने में मदद करता है।
  7. इस आसन को करने से आप के मस्तिस्क में रक्त का संचार सुचारू रूप से होता है जिस से आप का मस्तिस्क तेज होता है।
  8. जिन महिलाओं को मासिक धर्म और गर्भाशय में कोई परेसानी है तो वह महिलाए नियमित रूप से ये आसन अपनाए जल्द ही उनकी समस्या ख़त्म हो जाएगी।
  9. इस आसन को करने से आप के शरीर में होने वाली थकावट और शारीरिक दुर्बलता समाप्त हो जायेगी। आप को भूख लगने लगेगी और आप स्वाथ्य हो जायेंगे।
  10. अगर आप मोटापे से पीड़ित है तो भी यह आसन ज़रूर अपनाएं यह आसन मोटापे को भी दूर करता है।

सर्वांगासन आसन को करते समय सावधानियां –

अगर आप को कमर में दर्द, चक्कर आना, गर्दन में दर्द, गर्भावस्था में, दिल की कोई बिमारी हो अथवा उक्त रक्त चाप की शिकायत है तो कृपया ये आसन ना करें।