सिरदर्द : कारण और इसके घरेलू उपचार

सिरदर्द कारण और इसके घरेलू उपचार, सिरदर्द घर उपचार, सिरदर्द उपचार, सिर दर्द की दवा का नाम, रोजाना सिर दर्द के कारण, तनाव सिरदर्द, पुराना सिर दर्द का इलाज, Headache causes and treatment of its home remedies, headache home remedies, headache treatment, headache medication, daily headache, stress headache, chronic headache treatment
सिरदर्द : कारण और इसके घरेलू उपचार

नोट : कोई भी औषधि (medicine) सिर्फ चिकित्सक (doctor) की देखरेख में ही लें

 

 

सिरदर्द के विषय में किये गए अनुसंधानों से जो बात सामने आई है वो ये है कि सिरदर्द एक लक्षण है बीमारी नहीं है। ये समस्या शरीर में उत्पन्न किसी कारणवश उभरती है। आज कल के लोग एक दूसरे से बेहतर और आगे निकलने की दौड़ में लगे हुए हैं। ऐसे में सिरदर्द की शिकायत होना आम बात है। सिरदर्द का सबसे बड़ा कारण है तनाव। यह समस्या छोटे बच्चों से लेकर बड़े बुजुर्गों तक को परेशान कर देती है। सिरदर्द के कई कारण हो सकते हैं।

सिरदर्द के कारण (cause of headache)

टाक्सिक से होने वाला सिरदर्द  (toxic headache)

इस प्रकार का सिरदर्द अक्सर शराब पीने वालों को होता है। ऐसे सिरदर्द में दर्द से पीड़ित व्यक्ति को किसी भी दवा से लाभ नहीं होता है। टाक्सिक से होने वाले सिरदर्द से पीड़ित व्यक्ति पागल सा हो जाता है।

रिह्युमेटिक सिरदर्द (rheumatic headache) 

यह सिरदर्द मौसम परिवर्तन होने की वजह से होता है। यह उन लोगों को प्रभावित करता है जो लोग अत्यधिक संवेदनशील होते हैं।

ठंड और साइनस के कारण (causes of cold and sinus)

म्यूकस की झिल्लियों में सूजन होने से तथा नाक के अन्दर सूजन व् खुश्की होने से इस प्रकार का सिरदर्द हो जाता है।

सर्दी जुकाम के लिए रामबाण उपचार

अपच के कारण (due to indigestion)

यदि आप अपनी क्षमता से ज्यादा भोजन कर लेते हैं। अनियमित अत्यधिक भोजन करने के कारण हमारी पाचन क्रिया सुचारू रूप से नहीं हो पाती। ऐसी स्थिति में हमारे पेट में गैस बन जाती है। यह गैस हमारे मस्तिष्क में पहुँच जाती है। जिससे भयंकर सिरदर्द होने लगता है। हाजमा ख़राब होने से, खाना सही से न पचने से भी सिरदर्द होने लगता है।

नर्वस होने पर (nervous)

यदि आप किसी प्रकार की परेशानी में आकर मानसिक तनाव की स्थिति में आ जाते हैं। अधिक मानसिक तनाव लेने पर या घबराने पर जब मस्तिष्क पर अधिक दबाव पड़ता है। ऐसा होना सिरदर्द होने का कारण है।

खून की कमी से (lack of blood)

शरीर में रक्त की कमी होने से कई प्रकार की समस्याएँ उत्पन्न हो जाती हैं। इनमें से एक मुख्य बीमारी सिरदर्द है।  यदि शरीर में रक्त की कमी हो तो भी सिर में दर्द होने लगता है।

आँखों की रौशनी बढ़ाने के आसान तरीके

कब्ज़ के कारण (causes of constipation)

यदि आपको कब्ज़ है और पेट साफ़ नहीं होता है। किसी वजह से पेट साफ़ नहीं हुआ है तो भी आपको गैस की वजह से सिरदर्द हो सकता है। ऐसे सिरदर्द में कोई दवाई खाने पर भी असर नहीं होता।  

सिरदर्द के उपचार (treatment of headache)

बेहतर होगा की आप सिरदर्द को दूर करने के लिए पहले सिरदर्द की वजह को समझ लें। उस वजह को दूर करेंगे तो सिरदर्द अपने आप दूर हो जायेगा।  

गर्म पानी में पैर रखना (keep feet in hot water)

दिन में दो बार कुछ दिनों तक गर्म पानी में पैर रख कर बैठें। शुरू में आराम मिलेगा, लेकिन इस क्रम को जारी रखें। जब तक सिरदर्द पूरी तरह से ठीक न हो जाये, ऐसा करते रहें।

योग एवं प्राणायाम (yoga and pranayama)

सिरदर्द में योग एवं प्राणायाम भी लाभदायक है। मकरासन, वज्रासन, स्वासन तथा भ्रामरी प्राणायाम करें। इससे भी आपका सिरदर्द ठीक हो जायेगा।

सिरदर्द से बचने के घरेलू उपाय (home remedies to avoid headache)

ताजे फल और हरी सब्जियों का सेवन (fresh fruit and green vegetables intake)

अपने भोजन में प्रचुर मात्रा में ताजे फल और हरी सब्जियों का ज्यादा से ज्यादा उपयोग किया करें। साथ में अंकुरित अनाज शामिल करें। इस प्रकार का भोजन आपको स्वस्थ रखेगा और आप सिरदर्द जैसी बीमारी से बच सकते हैं। 

कब्ज़ से बचें (avoid constipation)

पेट हमेशा साफ़ रखें। कब्ज़ न होने दें। कब्ज़ सिर्फ सिरदर्द ही नहीं और भी कई अन्य रोगों को जन्म देती है। यदि पेट साफ़ नहीं होता है तो किसी अनुभवी चिकित्सक के परामर्श से ईसबगोल या कोई चूर्ण ले सकते हैं।

दाँतों में होने वाली समस्याओं का रामबाण उपचार

अन्य घरेलू उपचार (other home remedies)

  • अपच के साथ सिरदर्द हो तो सेब के टुकड़े पर नमक लगाकर एक महीने तक सुबह नाश्ते में लें।
  • बराबर मात्रा में गाजर चुकंदर, पालक का रस मिलाकर एक गिलास कर लें और एक माह तक सुबह नाश्ते में लें।
  • गर्मी के कारण सिरदर्द है तो प्याज के टुकड़े को पैर के तलवे में तेजी से रगड़ें। 
  • आधा गिलास गरम पानी में एक चम्मच नीबू और अदरक का रस और उसमे एक चम्मच शहद मिलाएं और थोडा-थोडा कर के पीयें।

सावधानी:-

एक बार में एक ही दवा लें, पहली दवा लेने के आधे घंटे बाद तक कोई दवा ना लें।

By विभा पाण्डेय

यदि मन में कुछ करने की इच्छा हो तो कोई रोक नहीं सकता। हाँ बाधाएं तो आएंगी ही किन्तु बाधाएं मात्र वो सीढ़ी हैं जिन पर पैर रख कर हमें ऊपर उठना है। जिनके पार सफलता दिखाई देती है। हाउसवाइफ होते हुए भी मैंने जब ये ठान ली की कुछ करना है तो मुझे घर छोड़ कर बाहर निकलने की आवश्यकता नहीं पड़ी। अवसर मेरे सामने आया और मैंने उसे गंवाया नहीं और जुड़ गई 13th टीवी के साथ

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *