हनुमान जी की आरती

हनुमान आरती, हनुमान जी की आरती, आरती, aarti, arti, hanuman aarti, hanuman arti, hanuman ji ki aarti, hanuman ji ki arti, आरती कीजै हनुमान लला की, aarti kijai hanuman lala ki, आरती संग्रह ,आरती संगृह, aarti sangrah, arti sangreh
हनुमान जी की आरती

हरती है सब कष्ट हनुमान जी की आरती :

हनुमान जी श्रीराम के परम भक्त है। कहा जाता है कि जहाँ पर भी भगवान् श्रीराम का नाम लिया जाता है। वहां पर हनुमान जी का आवाहन हो जाता है। हनुमान जी की आरती का नित्य जप करने से आपके सभी कष्टों का नाश हो जाता है। आइये इस आरती को पढ़ें : –

हनुमान जी की आरती

आरती कीजै हनुमान लला की – 2

दुष्ट दलन रघुनाथ कला की।।

आरती कीजै हनुमान लला की – 2

जाके बल से गिरवर कांपे।

रोग दोष जाके निकट न झांके।।

अंजनिपुत्र महाबल दाई।

संतन के प्रभु सदा सुहाई।।

आरती कीजै हनुमान लला की – 2

दे बीरा रघुनाथ पठाये।

लंका जाये सिया सुधि लाए।।

लंका सो कोट समुद्र सी खाई।

जात पवनसुत बार न लाई।।

लंका जारी असुर सहारे।

सियाराम जी के काज संवारे।।

आरती कीजै हनुमान लला की – 2

लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे।

आनी सजीवन प्राण उबारे।।

पैठि पाताल तोरि यम कारे।

अहिरावण की भुजा उखारे।

बाएं भुजा असुर दल मारे।

दाहिने भुजा संत जन तारे।।

आरती कीजै हनुमान लला की – 2

सुर नर मुनि जन आरती उतारे।

जय जय जय हनुमान उचारे।।

कंचन थाल कपूर लौ छाई

आरती करत अंजना माई।

जो हनुमान जी की आरती गावे

बसहिं वैकुंठ परम पद पावे

आरती कीजै हनुमान लला की – 2

“भगवान श्री राम चंद्र की जय

सिया वर राम चंद्र की जय”

यहाँ पढ़ें : श्री शनिदेव जी की आरती

By 13th TV

मैं समूह हूँ ऐसे मित्रों का जो महत्वकांशी तो हैं किन्तु जिनकी महत्वाकंशाएं हैं कि वे इतना योग्य बन सकें कि दूसरों का अधिक से अधिक भला कर सकें। ये ऐसे मित्र हैं जो सबको स्वास्थ्य प्रदान करने वाला Web TV Channel खोलना चाहते हैं। मेरी आयु, मेरी वृद्धि और मेरा विकास इन्हीं के परिश्रम पर निर्भर करता है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *