मधुमेह (Diabetes): लक्षण, कारण एवं उपाय

क्या हैं मधुमेह के लक्षण कारण एवं उपाय, कैसे उत्पन्न होता है मधुमेह का रोग, पैंक्रियाज का काम न करना, शर्करा से इन्सुलिन बनने की प्रक्रिया, खून में ग्लूकोस, इन्सुलिन क्या है, क्यों होता है मधुमेह, वंशानुगत है मधुमेह, अधिक फास्टफूड खाने से होता है मधुमेह का रोग, मधुमेह होने के लक्षण, अधिक मोटापा, मधुमेह होने से बचाव, योग अपनाएं, कम कैलोरी का सेवन, मीठा बिलकुल नहीं, पौष्टिक भोजन लें, थोड़ा थोड़ा खाएं, नशा बंद कर दें, तनाव मुक्त रहें, पर्याप्त नींद लें, नियमित शारीरिक जांच करवाएं, अपने पास ब्लड ग्लूकोस मॉनिटर, symptoms causes and remedies of diabetes, How does diabetes occur, if your pancreas, what is insulin, causes of diabetes, diabetes is hereditary, eating too much fast food can be the cause of diabetes, obesity, symptoms of diabetes, prevention of diabetes, do yoga and exercise, Low calorie intake, avoid sweets or sugar, eat nutritious meals, eat a little bit, stop addiction, stay stress free, get enough sleep, have regular body tests, blood glucose monitor with you,
लाइलाज नहीं है डायबिटीज (Diabetes is not incurable)

क्या हैं मधुमेह के लक्षण कारण एवं उपाय (symptoms, causes and remedies of diabetes)

हम यहाँ जिस बीमारी के विषय में बात करने वाले हैं ये एक आम बीमारी बनती जा रही है। एक ऐसी बीमारी जो आजकल लोगों के जीवन का एक हिस्सा ही बन चुकी है, और ये है मधुमेह (Diabetes)। लोगों की अनियमित जीवन शैली के कारण ये रोग लोगों में फैलता जा रहा है। ये एक ऐसी बीमारी है कि जिसे एक बार लग तो पूरी जिंदगी उसे इससे लड़ना पड़ता है। आज से कुछ समय पहले देखा जाता था कि यह शारीरिक समस्या लोगों को 40 साल की उम्र के बाद ही लगती थी, किन्तु अब यह बीमारी बच्चों को भी अपने चपेट में लेने लगी है। इसलिए आज के दौर में यह व्याधि अपने आप में चिंता का कारण बनती जा रही है।

ये भी पढ़ें: यदि ऐसे करें भोजन, रहेंगे स्वस्थ

कैसे उत्पन्न होता है मधुमेह का रोग (How does diabetes occur)

पैंक्रियाज (Pancreas) का काम न करना

वास्तव में हमारे शरीर में मौजूद पैंक्रियाज (Pancreas)  का काम है शरीर में मौजूद शर्करा को इन्सुलिन में बदलना और ये इन्सुलिन रक्त में मिल कर ऊर्जा का काम करती है। किन्तु जब ये पैंक्रियाज (Pancreas) काम करना बंद कर देती है, या काम करना काम कर देती है तो शर्करा से इन्सुलिन बनने की प्रक्रिया रुक जाती है। जिस कारण इंसुलिन का पहुचना कम हो जाता है और खून में ग्लूकोस का स्तर बढ़ जाता है। इस स्थिति को मधुमेंह कहा जाता है।

यहाँ जानें: यदि ऐसे रखेंगे सफाई तो नहीं होंगे बीमार

इन्सुलिन क्या है? (what is insulin)

इंसुलिन एक प्रकार का हार्मोन है जोकि पाचक ग्रंथि द्वारा बनता है। इसका काम है शरीर में मौजूद भोजन को उर्जा में बदलना। ये हार्मोन शरीर में शर्करा की मात्रा को संतुलित करता है। मधुमेह (Diabetes) हो जाने पर शरीर को भोजन से उर्जा बनाने में कठिनाई होती है।

क्यों होता है मधुमेह (causes of diabetes)

1. वंशानुगत (hereditary):-

मधुमेह (Diabetes) अधिकतर वंशानुगत और अनियमित जीवन शैली के कारण होता है। अधिकतर वंशानुगत कारणों से टाईप – 1 और अनियमित जीवन शैली की वजह से टाईप – 2 होता है। जिस परिवार में पुरानी पीढ़ियों से यह रोग है उनमें यह रोग होने का खतरा अधिक रहता है।

2. विश्राम न करना (not taking rest ):-

बिना विश्राम के अधिक शारीरिक कार्य करना इसका एक कारण हो सकता है। यदि आप पूरी नींद नहीं लेते, तो आपकी चयापचय प्रक्रिया बाधित हो सकती है। पाचन तंत्र के बिगड़ने से पैंक्रियास का काम करना बंद हो सकता है। और यह रोग आपको घेर सकता है।

3. अधिक फास्टफूड खाना (eating too much fast food):-

फास्टफूड का अत्यधिक प्रयोग करना भी इसका एक कारण हो सकता है। अधिक फ़ास्टफ़ूड जैसे पिज़्ज़ा, बर्गर, कोल्डड्रिंक इत्यादि का सेवन भी आपकी पाचन क्रिया को हानि पहुंचाता है और आपको इस रोग का शिकार बना सकता है।

यहाँ जानें: कैसे बचें बवासीर होने से

4. अधिक मीठा खाना (eating too much sweets):-

अधिक मीठा खाने से मधुमेह (Diabetes) होने का खतरा इसलिए रहता है क्योंकि अधिक मीठा खाने से आपकी पैंक्रियाज (Pancreas) पर अधिक दबाव पड़ता है। यदि आप व्यायाम नहीं कर रहे किन्तु मीठे का सेवन अधिक कर रहे हैं तो आपकी पैंक्रियाज में समस्या हो सकती है। और नहीं मधुमेह (Diabetes) है।   

5. अधिक मोटापा (obesity):-

अधिक मोटापा होना भी मधुमेह (Diabetes) होने का कारण बन सकता है।

6. व्यायाम न करना (not doing exercise):-

यदि आप व्यायाम नहीं करते तो आपका शरीर बेहतर तरीके से कॉम नहीं कर पाता। रक्त संचार के काम होने से शरीर के कई अंग काम करना काम कर देते हैं। जिनमें से पैंक्रियाज भी एक है।  

यहाँ जानें: गर्म पानी पीने के यह फायदे भी होते हैं

मधुमेह होने के लक्षण (symptoms of diabetes):

  1. चक्कर आना,
  2. बार बार पेशाब आना,
  3. चिडचिडापन आना,
  4. ज्यादा प्यास लगना,
  5. किसी भी प्रकार की चोट जल्द से ठीक ना होना,
  6. शरीर में कुछ अंगों पर खुजली वाले जख्म होना इत्यादी,

यदि इनमें से आपको कोई भी लक्षण हो तो घबराएं नहीं। नीचे बताये हुए उपाए अवश्य करें।

मधुमेह होने से बचाव (prevention of diabetes):-

अपनी दिनचर्या में बदलाव करते हुए आलस को त्यागें और अपने शरीर को क्रिया शील बनाये।

1. पैदल चलें (walk):-

प्रातः कम से कम तीन से चार किलोमीटर रोजाना पैदल चलें। प्रतिदिन व्यायाम करे। रोज़ाना अलग अलग तरीके (कभी तेज तो कभी धीरे) चल चल सकते हैं। उदाहरण के लिए एक दिन तेज़, एक दिन आराम से, एक दिन दौड़ लगाएं।

2. योग अपनाएं (yoga):-

प्रतिदिन योग अवश्य करें। प्राणायाम के साथ साथ आसन भी करें। यदि आपको मधुमेह (Diabetes) है तो आप ये आसन अवश्य करें – कपालभाति प्राणायाम, सुप्तमत्स्येन्द्रासन, पश्चिमोत्तानासन, धनुरासन, अर्धमत्स्येन्द्रासन, वज्रासन, सर्वांगासन तथा हलासन। यदि आपको मधुमेह (Diabetes) नहीं है तो आपको ये आसान अवश्य करने चाहिए। आपको जीवन भर मधुमेह (Diabetes) नहीं होगा।

यहाँ पढ़ें: यदि रहना चाहते हैं स्वस्थ तो अपनाएं यह उपाय

3. कम कैलोरी का सेवन (Low calorie intake):-

काम कैलोरी वाला भोजन ग्रहण करें। यदि आप बहुत अधिक शारीरिक व्यायाम करते हैं, तो आप अधिक कैलोरी ले सकते हैं। लेकिन यदि आप अधिक शारीरिक व्यायाम, कसरत या भाग दौड़ नहीं करते तो अधिक कैलोरी वाला भोजन आपके लिए उचित नहीं है।

4. मीठा बिलकुल नहीं (avoid sweets or sugar):-

हमारे शरीर को जितना मीठा या शर्करा चाहिए वो हमें फलों, सब्ज़ियों आदि से मिल ही जाता है। अलग से मीठा खाने की आवश्यकता नहीं होती। इसलिए मीठे से परहेज़ करें। याद रखें, सफ़ेद चीनी खाना ज़्यादा नुकसानदेह है।  

5. पौष्टिक भोजन लें (eat nutritious meals):-

हरी सब्जियां, ताजे फल, साबुत अनाज आदि अपने भोजन में शामिल करें। ऐसे तत्त्व अपने भोजन में अवश्य सम्मिलित करें जिनमें ओमेगा-3 तथा वसा हो। भोजन में हरी पत्तेदार सब्जियों तथा करेला, लौकी, मूली, शलजम, बैगन, बंदगोभी, का सेवन भी करें।

6. थोड़ा थोड़ा खाएं (eat a little bit):-

एक साथ ठूंस ठूंस कर ना खाएं। पूरे दिन में थोड़ा-थोड़ा करके कई बार खाएं। बाहरी खाने से बचे। और पोषक तत्व से भरपूर भोजन करें। जैसे हरी सागसब्जी,दलिया,खिचड़ी, दाल आदि। 

यहाँ जानें: कैसे है आयुर्वेद विश्व की एक प्राचीन चिकित्सा पद्धति?

7. नशा बंद कर दें (stop addiction):-

अगर आप नशे के आदी है तो इसे तुरंत बंद करें, जैसे शराब आदि नशीले पदार्थों का सेवन कम या बिलकुल ही बंद कर दें।

8. तनाव मुक्त रहें (stay stress free):-

ज़रा ज़रा सी बात को लेकर परेशान न हों। आपकी टेंशन, चिंता, तनाव आपको मधुमेह (Diabetes) का रोगी बना सकता है या रोग को बढ़ा सकता है।

9. पर्याप्त नींद लें (get enough sleep):-

पूरी नींद लें। नींद में ही शरीर की थकान ख़त्म होती है। टूटी फूटी कोशिकाओं की मरम्मत होती है तथा हमारे शरीर को पुनः ऊर्जा प्राप्त होती है। इससे शरीर के अंग सुचारु रूप से अपना  कार्य करती रह सकती हैं।

10. नियमित शारीरिक जांच करवाएं (have regular body tests):-  

समय समय पर अपनी शरीर की जांच करवाएं।  समय समय पर होनी वाली स्वास्थ्य जांच से आप जटिल रोगों से दूरी बनाये रख सकते हैं। जांच के पश्चात् डॉक्टर के परामर्श के अनुसार अपनी खान-पान तथा दिनचर्या परिवर्तित करें।

अपने शुगर लेवल को हाई ना होने दें ।

11. अपने पास ब्लड ग्लूकोस मॉनिटर (blood glucose monitor with you):-

एक ब्लड ग्लूकोस मानिटर खरीद लें जिस से आप अपने घर पर ही अपने शुगर लेवल को जान सकते है। आपको पता रहेगा की आप का शुगर लेवल नार्मल है या नहीं, ऐसा करने से आप जोखिम से मुक्त रहेंगे ।

यहाँ जानें: कितने प्रकार का होता है योगासन?

चेतावनी: जैसे ही आपको पता चले कि आपको डायबिटीज है, कृपया चिकित्सक से संपर्क करें। एकदम से अपनी मर्ज़ी से इन्सुलिन के इंजेक्शन लेना शुरू न कर दें।

दोस्तों आपको हमारा ये सुझाव कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं। खुश रहे सावधान रहे आप लोगों के प्रति यही हमारा मकसद है।

By विभा पाण्डेय

यदि मन में कुछ करने की इच्छा हो तो कोई रोक नहीं सकता। हाँ बाधाएं तो आएंगी ही किन्तु बाधाएं मात्र वो सीढ़ी हैं जिन पर पैर रख कर हमें ऊपर उठना है। जिनके पार सफलता दिखाई देती है। हाउसवाइफ होते हुए भी मैंने जब ये ठान ली की कुछ करना है तो मुझे घर छोड़ कर बाहर निकलने की आवश्यकता नहीं पड़ी। अवसर मेरे सामने आया और मैंने उसे गंवाया नहीं और जुड़ गई 13th टीवी के साथ

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *