गर्मियों के मौसम में कैसे रहें स्वस्थ

गर्मियों में कैसे रहें स्वस्थ, गर्मियों में स्वस्थ रहने के लिए टिप्स, गर्मियों में क्या खाना, और क्या नहीं खाना चाहिए, बढती गर्मी में कैसे रहें स्वस्थ, How to stay healthy in summer, Tips to stay healthy in summer, what to eat in the summer, and what should not be eaten, how to stay healthy
गर्मियों के मौसम में कैसे रहें स्वस्थ

मित्रों गर्मी की ऋतु का आगमन हो चुका है। गर्मी का ये मौसम हमारे मानव शरीर को बाहरी एवं आंतरिक रूप से बहुत प्रभावित करता है। इस मौसम में यदि कुछ सावधानियां बरत ली जाएं तो इसके दुष्प्रभावों से बचकर स्वस्थ रहा जा सकता है। इस मौसम में यदि हम किसी प्रकार की लापरवाही करते हैं, तो हमें कई प्रकार की समस्यायों का शिकार होना पड़ सकता है। आइये जानते हैं कि गर्मियों के मौसम में कैसे रहें स्वस्थ।  

प्रातःकाल उठना एवं व्यायाम करना (wake up and exercise in the morning)

जैसा कि हम जानते हैं कि गर्मियों के मौसम में रात्रि का समय छोटा और दिन लम्बे हो जाते हैं। इसलिए रात को समय से सोने की आदत डालें। प्रातः काल उठ जाएं और शुद्ध-वायु को ग्रहण करने के लिए यदि संभव हो तो पार्क में जाएं। सुबह-सुबह शुद्ध हवा में श्वास लें। साथ ही नित्य प्रतिदिन योग या व्यायाम करने की भी आदत डालें। आजकल सरकार द्वारा पार्कों में ‘ओपन-जिम’ भी बना दिए गए हैं। उनका प्रयोग करें और व्यायाम करके आप स्वस्थ रहने का प्रयास करें।

पानी का सेवन अत्यंत जरूरी (water consumption is very important)

गर्मी के मौसम में तापमान बहुत अधिक बढ़ जाता है। दिन के समय कड़ी धुप में और दोपहर में बाहर ना निकलें। यदि निकलना ही पड़े तो जाने से पहले एक गिलास ठंडा पानी (हो सके तो घड़े का) पीकर अवश्य जाएं। पानी की एक बोतल अपने साथ रखें, और बीच-बीच में पानी पीते रहें। एक प्याज को भी अपनी जेब में रख लें। इससे लू के प्रभाव से आप बच सकते हैं।

गर्मी में चेहरे की त्वचा झुलसने से कैसे बचाएं

सिर को बचाएं कड़ी धूप से (save the head from the sunshine)

यदि तेज धूप में कहीं जाना पड़े तो सिर को टोपी, हेलमेट या पगड़ी-साफा आदि से ढक लें। आँखों पर चश्मा लगा लें, और छाता लेकर ही निकलें। साथ ही विशेष ध्यान रखें कि अपने नाक और कान अच्छे से ढके हुए हैं। क्योंकि तेज गर्म हवा और लू अक्सर कानों या नाक के द्वारा शरीर को अधिक प्रभावित करती है। यदि आपका सिर ढका हुआ ना हो तो सिर पर सूर्य की तेज किरणें पड़ने से आप बीमार हो सकते हैं। इसलिए सिर, नाक और कानों का विशेष ध्यान रखें, और गर्मी से सुरक्षित रहें।

चेहरे की त्वचा को भी बचाएं (also save face skin)

आजकल बाज़ार में कई प्रकार के आयुर्वेदिक सौंदर्य-प्रसाधन फेसपैक के रूप में उपलब्ध हैं। आप इनका प्रयोग करके अपने चेहरे की त्वचा को गर्मी के प्रभाव से बचा सकते हैं। लेकिन इन उत्पादों का प्रयोग करने से पहले यह जांच लें कि आपकी त्वचा की प्रकृति किस प्रकार की है। यानि कि आपकी त्वचा तेलीय है अथवा शुष्क। जिस प्रकार के प्रसाधन आपकी त्वचा के लिए उचित हों उन्हीं का प्रयोग करें, और ग्रीष्म-ऋतु के प्रकोप से बचें।

तरल पदार्थों का सेवन करें (drink liquid) 

इस मौसम में बढ़ते हुए तापमान की वजह से मानव शरीर में पानी की मात्रा कम हो जाती है। इसलिए हमें कुछ तरल पेय पदार्थ जो कि इस मौसम में हमारे शरीर में जल की मात्रा को बनाये रखते हैं। इन तरल पेय पदार्थों का सेवन करते रहना चाहिए। जैसे नीम्बू-पानी, गुड़-सत्तू, जलजीरा, शरबत, ठंडा-दूध, लस्सी, दही या पानी में ग्लूकोज़ घोलकर पीना। ताजे फलों का रस भी पी सकते हैं, इससे आपके शरीर में ठंडक और तरावट बनी रहती है। ऐसा करने से गर्मी से भी राहत मिलती है।

यदि आप ऐसे भोजन करेंगे, तो रहेंगे स्वस्थ

गर्मी में तापमान के प्रभाव से बचें (avoid the effects of temperature in summer)

यदि आप तेज कड़ी धूप में बाहर घूम रहें हैं तो, घूमते हुए ठंडा-पानी, कोल्ड-ड्रिंक, जूस या कोई पेय पदार्थ न पियें। किसी जगह पर रूककर, और थोडा आराम करके ही कुछ पियें। घर में पहुंचकर तुरंत ठंडा पानी न पियें, और ना ही तुरंत कूलर, पंखा, ए.सी. को चलाएं। जब आपके शरीर का पसीना कुछ सूख जाए और शरीर का तापमान कुछ सामान्य हो जाए तब ही कोई पेय पदार्थ लें। ऐसा करना इसलिए जरूरी है क्योंकि जब हम भीषण गर्मी में बाहर से होकर अंदर घर में प्रवेश करते हैं। ऐसे में हमारे शरीर का तापमान अंदर के वातावरण की अपेक्षा अधिक होता है। शरीर पर पसीना सूखने में और शरीर को साधारण तापमान पर आने में कुछ समय लगता है। इसलिए यदि तुरंत शरीर को गर्मी से ठंडा वातावरण दिया जाए तो यह हमें नुक्सान पहुंचा सकता है, ऐसा करने से बचें।

हल्का भोजन ही ग्रहण करें (take light meal only)

गर्मी के मौसम में हमें अपनी प्रतिदिन की ‘भोजन-शैली’ में भी बदलाव लाना चाहिए। जहाँ तक हो सके दिन और रात के समय में भी भोजन हल्का ही लें। तेज मिर्च-मसाला, नमकीन, बेसन, तले हुए और बासी भोजन का प्रयोग ना करें। यदि संभव हो तो बाजार के पैकेट की बजाय दही और लस्सी भी घर में ही बनायें, और खुद को स्वस्थ रखें।

गर्मी में भूखा रहना भी नुकसानदायक (being hungry in summer is also harmful)

गर्मियों के दिनों में ज्यादा समय तक भूखे ना रहें। यदि आपकी दिनचर्या या कार्य-शैली ही ऐसी है कि आप समय पर भोजन नहीं कर पाते। तो ऐसे में आपको भी सचेत रहना चाहिए। इस मौसम में कई प्रकार के फल जैसे कि संतरा, तरबूज, खरबूजा, केला, मौसमी, खीरा, ककड़ी आदि उपलब्ध होते हैं। आपको इनका प्रयोग भी करते रहना चाहिए। ताजे फलों का रस भी पी सकते हैं। यदि हो सके तो इन फलों का रस अपने घर में स्वयं निकालकर पियें। क्योंकि बाज़ार में मिलने वाला जूस अधिकांश स्वास्थ्य की दृष्टि से इतना अधिक लाभप्रद नहीं होता, ऐसा करने से भी बचें।

यदि ऐसे रखेंगे सफाई तो नहीं होंगे बीमार

रात के समय में भी हल्का भोजन ही लें (take a light meal even during the night)

गर्मी के मौसम में रात का भोजन सादा एवं हल्का ही करें। इस मौसम में अधिक भोजन करना आपके स्वास्थ्य को बिगाड़ सकता है। इसलिए रात के भोजन में तेज-मसालेदार एवं तला हुआ खाने से परहेज करें। बिस्तर पर लेटने से लगभग एक घंटा पहले भोजन कर लें। भोजन में आम-पना का सेवन भी सेहत के लिए अच्छा होता है।

यदि माँसाहारी एवं शराब की आदत है तो (if there is a habit of non veg and alcohol)

जैसा कि हम बता चुके हैं कि गर्मी के मौसम में हमारे शरीर का तापमान भी बढ़ जाता है। यदि आप मांसाहार के शौक़ीन हैं और शराब, बियर या अन्य अलकोहल ड्रिंक्स आदि पीते हैं तो गर्मी में इनका सेवन कम कर दें। केवल बियर का प्रयोग गर्मी में कर सकते हैं, क्योंकि बियर में ‘जौ’ का रस होता है जो कि शरीर को अधिक नुक्सान नहीं पहुंचाता। यदि आप प्रतिदिन या अधिक मात्रा में मांसाहार लेने के शौक़ीन हैं। मांसाहार का प्रयोग गर्मी के मौसम में, दस दिन में एक बार या माह में दो से तीन बार करें। ध्यान रहे कि तेज मसालेदार मीट तथा तैलीय खाने से बचें, तथा स्वस्थ रहें।

मित्रों हमें आशा है कि गर्मियों के मौसम में कैसे रहें स्वस्थ के सम्बन्ध में इन उपायों को अपनाकर आप गर्मी के मौसम में भी अपने शरीर को स्वस्थ रख सकते हैं। यदि आपका कोई प्रश्न या सुझाव है तो आप नीचे कमेंट करें। हमें शीघ्र आपके प्रश्न का उत्तर देने का प्रयास करेंगे और आपके सुझावों अवश्य ध्यान देंगे।  

क्या गर्म पानी पीने के नुकसान भी होते हैं?

By ताजेंदर सिंह

भारतीय युद्ध कलाओं में मेरी रुचि शुरू से ही काफी रही है। घर की दीवार पर टंगा नॉनचक मुझे हमेशा चिढ़ाता रहता है। अलग अलग मार्शल आर्ट्स के बारे में जानने की ललक मुझमें हमेशा से ही रही। कई अलग अलग मार्शल आर्ट्स के बारे में मैं अक्सर रिसर्च करता रहता हूँ। जब भी कुछ नया सामने आता है तो कोशिश करता हूँ कि उसे एक लेख के रूप में पिरो कर आपके सामने रखूँ। इसमें युद्ध कलाओं की अधिकता होती है लेकिन इसके अलावा भी अगर मुझे कुछ लिखने का मौका मिले तो मैं चूकता नहीं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *