आयुर्वेद, आयुर्वेद की उपयोगिता, आज के परिपेक्ष्य आयुर्वेद की उपयोगिता, आयुर्वेदिक चिकित्सा आयुर्वेद, आयुर्वेद को समझाइए, आयुर्वेद के सिद्धांत, आयुर्वेद इन हिंदी, आयुर्वेद एक प्राचीनतम चिकित्सा पद्धति, आयुर्वेद का इतिहास, आयुर्वेदिक चिकित्सा इन हिंदी, आयुर्वेद का महत्व, Usefulness of Ayurveda, Ayurveda, usefulness of today's peripheral Ayurveda, Ayurvedic medicine Ayurveda, Ayurveda, Ayurveda principles, Ayurveda in Hindi, Ayurveda, an ancient medicine system, history of Ayurveda, Ayurvedic medicine in Hindi, Importance of Ayurveda
ayurveda is an oldest medical therapy

आयुर्वेद एक प्राचीनतम चिकित्सा पद्धति (ayurveda is an ancient medicine system)

आयुर्वेद क्या है? (what is ayurveda?)

विश्व में कई प्राचीन चिकित्सा पद्धतियाँ मौजूद हैं। उन्हीं में से आयुर्वेद एक प्राचीनतम चिकित्सा पद्धति मानी गयी है। ऋषि कश्यप, महर्षि चरक तथा सुश्रुत के अनुसार आयुर्वेद अथर्वेद का उपवेद है। पुरातत्ववेत्ताओं के अनुसार विश्व की प्राचीनतम पुस्तक ऋग्वेद है। आयुर्वेद का शाब्दिक अर्थ ‘आयु’ तथा ‘वेद’ इन दो शब्दों को अलग करके पाया जा सकता है। प्राचीन आचार्यों के अनुसार इन दो शब्दों के अर्थ बहुत व्यापक बताये हैं। शरीर, मन, इन्द्रियाँ, तथा आत्मा के संयोग को आयु कहा गया है तथा वेद का अर्थ है ज्ञान।

ये भी पढ़ें:आयुर्वेद द्वारा बाय-गठिया का उपचार भी संभव है

आयुर्वेद की उत्पत्ति (origin of ayurveda)

विश्व की प्राचीनतम पुस्तक ऋग्वेद में ही उल्लेख मिलता है आयुर्वेद के अति-महत्वपूर्ण सिद्धांतों का। ऋग्वेद के निर्माण काल के विषय में विभिन्न विद्वानों के मतानुसार ऋग्वेद 3,000 से 50,000 वर्ष ईसवी पूर्व लिखा गया था। कुछ विद्वान इस बात पर भी जोर देते हैं कि ऋग्वेद की उत्पत्ति सृष्टि के जन्म के आस-पास या उसके साथ ही हुई थी। इसी बात से हम आयुर्वेद की प्राचीनता का अनुमान लगा सकते हैं कि आयुर्वेद एक प्राचीनतम चिकित्सा पद्धति है। आयुर्वेद अपने प्राचीन समय से आधुनिक काल तक कैसे पहुंचा इस विषय में ये कहा जाता है कि सबसे पहले ब्रह्मा जी ने अपने पुत्र प्रजापति को आयुर्वेद का ज्ञान दिया। उसके पश्चात् प्रजापति ने ये ज्ञान अश्विनी कुमारों को दिया। अश्विनी कुमारों से इन्द्रदेव ने और फिर इन्द्रदेव से ऋषि भारद्वाज तक आयुर्वेद का ज्ञान पहुंचा। इसी प्रकार से आयुर्वेद ऋषि परंपरा का एक हिस्सा बन गया और धीरे-धीरे समय के साथ-साथ चलता रहा।

ये भी पढ़ें: कैसे हुआ आयुर्वेद का जन्म

आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति की विशेषता (specialty of ayurvedic medicine)

आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति की विशेषता यह है इससे किसी भी असाध्य रोग का निवारण किया जा सकता है। इस चिकित्सा पद्धति में यदि किसी को लाभ न भी हो तो भी यह किसी प्रकार से हानिकारक नहीं होती। इस प्रकार से आयुर्वेद एक प्राचीनतम चिकित्सा पद्धति के रूप में उभरी। आयुर्वेद मानव जीवन को स्वस्थ करने में लाभदायक सिद्ध हुआ है। आज भले ही मेडिकल साइंस ने कितनी ही तरक्की कर ली हो पर आयुर्वेद का चिकित्सा क्षेत्र में अपना एक अलग ही स्थान है। आज भी इस चिकित्सा  पद्धति को अपनाकर लाखों लोग अपने जीवन को निरोग कर रहें हैं।